विजयवर्गीय के बयान पर मंत्री का पलटवार, बौखला गए हैं पिता-पुत्र, जल्द आएगी पेंशन घोटाले की रिपोर्ट   विजयवर्गीय कमलनाथ सरकार को गिराने की बता कहते हैं, उनके 4-5 विधायक हमारे संपर्क में - वर्मा   कैलाश से बड़ा जालसाज इस प्रदेश में कोई नहीं है। पेंशन घोटाले की 8 से 10 दिन में रिपोर्ट आ जाएगी
November 6, 2019 • धर्मेंद्र शुक्ला

  इंदौर. क्षेत्र क्रमांक तीन के भाजपा विधायक आकाश विजयवर्गीय के सोमवार को दिए गए बयान पर मंगलवार को मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने पलटवार किया। मंत्री ने कहा कि पिता-पुत्र बौखला गए हैं। बेटा कह रहा है कि वह खाली हाथ नहीं चलता, वहीं पिता कह रहे हैं कि हम सरकार गिरा देंगे। जल्द ही पेंशन घोटाले की रिपोर्ट आएगी, जिसने गरीबो का पैसा खाया उन्हें हम छोड़ने वाले नहीं हैं। वे सरकार गिराने की बात कर रहे हैं, जबकि भाजपा के 4-5 विधायक हमारे संपर्क में हैं। हमारी सरकार पूरे पांच साल चलेगी।

सोमवार को विधायक विजयवर्गीय ने भाजपा के आंदोलन के दौरान मंच से कहा था कि सरकार यदि जल्द किसानों को मुआवजा नहीं देती और बिजली के आ रहे भारी भरकम बिल से लोगों को राहत नहीं देती है तो आप जानते हैं कि हम खाली हाथ तो चलते नहीं हैं। उनके इस बयान का मतलब हाल ही में उनके द्वारा क्रिकेट बैट से निगम कर्मचारी को पीटने से निकाला गया। इसके अलावा पिता कैलाश विजयवर्गीय समय-समय पर यह कहते रहे हैं कि वे कभी भी कांग्रेस की सरकार को गिरा सकते हैं।

इन्हीं बयानों पर मंगलवार को लोक निर्माण मंत्री सज्जन वर्मा ने पलटवार किया। वर्मा ने कहा कि मप्र में कमलनाथ से दिग्गज कोई नेता नहीं है। जो दिग्गज हैं वे यह जान लें कि पेंशन घोटाला जैसे मामलों में उनकी दाल गलने वाली नहीं हैं। जिस तरह से मुख्यमंत्री के संज्ञान में मामला आने के दूसरे दिन गुम फाइल मिल गई, यह इशारा करता है कि पेंशन घोटाले की जो रिपोर्ट आई है वह पेंशन घोटाले के अपराधियों के खिलाफ। जिन लोगों ने यह अपराध किया है उस रिपोर्ट में सभी का नाम है। आकाश विजयवर्गीय के बयान पर कहा कि उन्हांेने बयान दिया, कृत्य किया। हम पूर्वाग्रह से ग्रसित होना नहीं चाहते। हम चाहते हैं कि वे सुधर जाएं। वे अपनी भाषा पर संयम रखें। सरकार के हाथ मजबूत होते हैं। संविधान की धाराएं अंबेडकर साहब ने बनाई हैं और ये धाराएं आप जैसे लोगों के लिए बनाई गई हैं। इनसे कोई बच नहीं पाया है।

प्रधानमंत्री को लेकर कहा कि वे भाजपा के कद्दावर नेता हैं। सवाल ये है कि मोदी से लेकर नीचे के लोग तक दो मुंहें लोग हैं। कहना क्या... करना क्या... आकाश की ये बता धमकी नहीं है उन अधिकारियों के लिए। डरा.. डरा कर अपने शासनकाल में अपने बिल जीरो करा लिए गए, जो कि अपराध है। इसकी जांच की जा रही है। झाबुआ में उपचुनाव में प्रचार के दौरान विजयवर्गीय ने कहा था कि यह चुनाव हम जीत रहे हैं। इसके बाद कमलनाथ सरकार को धराशायी कर देंगे। जब हमारे प्रत्याशी ने बड़ी जीत दर्ज की तो कहने लगे कि यह कांग्रेस की सीट रही है। कैलाश से बड़ा जालसाज इस प्रदेश में कोई नहीं है। पेंशन घोटाले की फाइल खुल गई है। 8 से 10 दिन में रिपोर्ट आ जाएगी। तुमने दुखियारों का रुपया खाया है। उन्हें प्रदेश की जनता माफ नहीं करेगी।