*एसपीसी व स्कूली बच्चों के लिये किया गया, साइबर अपराध जागरूकता सेमिनार का आयोजन*
November 16, 2019 • धर्मेंद्र शुक्ला

*एसपीसी व स्कूली बच्चों के लिये किया गया, साइबर अपराध जागरूकता सेमिनार का आयोजन*

आज दिनांक 15.11.2019 को पुलिस रेडियो ट्रेनिंग स्कूल इंदौर निदेशक (आईजीपी) डॉ रमन सिंह सिकरवार के निर्देशन में रिजर्व इंदौर ग्रुप एंड चिल्ड्रन सिक्योरिटी ग्रुप व एसपीसी के बच्चों के पुलिस रेडियो ट्रेनिंग स्कूल मैं साइबर क्राइम अवेयरनेस हेतु एक वर्कशॉप का आयोजन किया गया, जिसमें एसपीसी के 50 बच्चों और आर आई ग्रुप के 75  बच्चों ने भाग लिया एवं इनके स्कूलों के 25 शिक्षक भी उपस्थित रहे। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डीआईजी (सेवानिवृत्त) श्री धर्मेंद्र चौधरी की विशेष उपस्थिति में, सचिव रिजर्व इंदौर ग्रुप आरती मौर्य, सचिव चिल्ड्रन सिक्योरिटी ग्रुप श्री राकेश शर्मा, एसपीसी की निरीक्षक सुश्री राधा जामोद भी मौजूद रहे। इस  अवेयरनेस प्रोग्राम में बच्चों को डीएसपी श्री सुभाष सिंह व उनकी टीम द्वारा साइबर क्राइम के विषय में अवगत कराते हुए, उन्हें पीपीटी प्रेजेंटेशन के माध्यम से, सोशल नेटवर्किंग द्वारा किये जाने वाले, बैंकिंग ट्रांजैक्शन एटीएम फ्रॉड, फेसबुक सोशल मीडिया पर बढ़ते हुए अपराध से बचने के उपाय बताएं गए।  
संगठन की आरती मौर्य द्वारा संगठन के विषय में रूपरेखा व भविष्य की सारी योजनाओं के विषय में विस्तृत चर्चा की गई और 100000 लोगों तक इस जागरूकता मुहिम को फैलाने के लिए अभियान की शुरुआत की गई।  साइबर क्राइम के प्रति जागरूकता हेतु इस प्रकार के कार्यक्रम का आयोजन आगे निरंतर चलता रहेगा जिसमें सभी लोगों को इसका प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा। 
अपराध को जड़ से मिटाना है तो उसे बचपन से ही खत्म करना, अपराध की रोकथाम है। जिसके लिए डीआईजी चौधरी जी ने कहा बच्चों में बचपन से ही नियमों के प्रति जागरूकता हो और अनुशासन हो वह हमारे देश की भावी पीढ़ी के रूप में एक अच्छे नागरिक बन सकते हैं, जिसके लिए आर आई ग्रुप एक सराहनीय कार्य कर रहा है और लगातार यह एक छोटे से पेड़ से से एक विशाल वृक्ष के रूप में कार्य कर रहा है जिसके लिए उन्हें बधाई देता हूं। हम सभी अधिकारियों, शिक्षकों व बच्चों को मिलकर इस विषय पर अवेयरनेस लाने की अवश्यकता है, तो आओ हम इसकी शुरुआत करें।  कार्यक्रम के अंत में है
एसपीसी की निरीक्षक सुश्री राधा जामोद द्वारा सभी का  आभार व्यक्त किया गया।