''*ध्यान के माध्यम से सुने अपने भीतर की आवाज एवं लाये अपने जीवन में सकारात्मकता''* *तीन दिवसीय मेडिटेशन प्रशिक्षण कार्यक्रम के समापन के अवसर पर एसएसपी इन्दौर ने अधीनस्थों को बतायी ये बात*
November 29, 2019 • धर्मेंद्र शुक्ला

*''ध्यान के माध्यम से सुने अपने भीतर की आवाज एवं लाये अपने जीवन में सकारात्मकता''*

*तीन दिवसीय मेडिटेशन प्रशिक्षण कार्यक्रम के समापन के अवसर पर एसएसपी इन्दौर ने अधीनस्थों को बतायी ये बात*

इन्दौर-दिनांक 27 नवंबर 2019- पुलिस की तनावपूर्ण व चुनौतीपूर्ण ड्‌यूटी के चलते, इन्दौर पुलिस को तनाव मुक्त करनें तथा आतंरिक शांति कें अनुभव के लिए, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक इन्दौर शहर श्रीमती रूचिवर्धन मिश्र के निर्देशन व मार्गदर्शन में पुलिस कंट्रोल रूम सभागृह मे, हार्टफुलनेस संस्था के तत्वाधान में तीन दिवसीय मेडिटेशन प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया, जिसका आज दिनांक 27.11.19 को समापन किया गया।
  
  हार्टफुलनेस संस्था के श्री राजेश रावेरकर एवं निमेष पालीवाल जी द्वारा हार्टफुलनेस मेडिटेशन प्रक्रिया की विस्तारपूर्वक जानकारी देते हुए बताया कि, इसमें रिलेक्सेशन, ध्यान, क्लीनिंग व प्रार्थना के माध्यम से अपनी वास्तविक प्रकृति की प्रसन्न एवं पुलकित अवस्था का अनुभव करना ही, हार्टफुलनेस मेडिटेशन है। यह एक बहुत ही सरल, आसान और प्रभावशाली तरीका हैं जिसे आराम से अपने घर पर बैठकर रोजाना किया जा सकता है। इसे करना जितना ही सरल हैं यह उतना हीप्रभावशील हैं। हार्टफुलनेस मेडिटेशन में रिलेक्सेशन हेतु शरीर के अंगों पर ध्यान केंद्रित करते हुए उन्हें रिलेक्स फील करते हुए महसूस करें कि, आपका पूरा शरीर, पूरी तरह तनाव मुक्त होते हुए सुकून की स्थिति मे आ गया है। ध्यान में अपने भीतर उस ईश्वरीय शक्ति के प्रकाश पुंज में अपने आप को समाहित करना है और क्लीनिंग के माध्यम से शरीर की सभी विशुद्धियों एवं विकारों को बडी आसानी से दूर किया जाता है तथा प्रार्थना में उस परम शक्ति के प्रति समर्पण के भाव के साथ जीवन के वास्वविक ध्येय को प्राप्त करने का प्रयास किया जाता है।
एसएसपी श्रीमती रूचि वर्धन मिश्र द्वारा सभी को जीवन में इसका महत्व बताते हुए कहा कि, हार्टफुलनेस के नियमित अभ्यास से जीवन मे आनें वाले तनाव से मुक्ति मिलती है एवं मानसिक व शारीरिक स्वास्थ सुदृढ होता है। जीवन मे सकारात्मकता एवं उत्साह का समावेश होता है और हम हर कार्य को दिल/मन से करने के लिये प्रेरित होते है। अतः हमे इसका अभ्यास नियमित करने का प्रयास करना चाहिए।
   इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में अति पुलिस अधीक्षक क्राइम श्री अमरेंद्र सिंह, रक्षित निरीक्षक जय सिंह तोमर सहित एसएसपी कार्यालय के समस्त स्टाफ, क्राइमब्रांच इंदौर और रक्षित केंद्र के अधिकारी/कर्मचारीगण उपस्थित रहें, जिन्होंने उक्त प्रशिक्षण प्राप्त कर, उसे अपने जीवन मे नियमित रूप से शामिल करने के बारें में प्रेरणा लेते हुए, इस संबंध में आवश्यक जानकारी प्राप्त की गयी।