सातवीं आर्थिक गणना-2019 का शुभारंभ
September 9, 2019 • धर्मेंद्र शुक्ला

     सातवीं आर्थिक गणना-2019 का शुभारंभ


इंदौर 9 सितम्बर,2019


            भारत सरकार, सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय, नई दिल्ली के निर्देशानुसार सातवीं आर्थिक गणना-2019 के तहत  मोबाईल एप के माध्यम से जानकारी संग्रहण के कार्य का शुभारंभ कलेक्टर श्री लोकेश कुमार जाटव द्वारा आज  किया गया।
 मुख्य कार्यपान अधिकारी जिला पंचायत श्रीमती नेहा मीना एवं  संयुक्त संचालक, संभागीय योजना एवं सांख्यिकी श्री जे.पी. परिहार द्वारा सातवीं आर्थिक गणना-2019 के कार्य का हरी झंडी दिखाकर शुभारंभ किया गया। श्रीमती नेहा मीना ने आर्थिक गणना के संबंध में बताया कि देश में पहली बार सातवीं आर्थिक गणना-2019 का सर्वेक्षण  कार्य डिजीटल तकनीक के माध्यम से होने जा रहा है, जिसमें भारत सरकार द्वारा मोबाईल एप्लीकेशन तैयार किया गया है। जिसमें सर्वेक्षण की अनुसूची डाली गई है। डिजीटली सर्वेक्षण के डेटा ऑनलाइन ऑन-द-स्पॉर्ट फीड किये जायेंगे।
  संयुक्त संचालक श्री जे.पी. परिहार ने  सातवीं आर्थिक गणना-2019 के संबंध में बताया  कि इंदौर जिले में नागरिक सुविधा केन्द्र  (सीएससी) के माध्यम से कुल 1661 प्रगणकों के माध्यम से उक्त गणना कार्य किया जायेगा। साथ ही 353 सुपरवाईजरों द्वारा उसका पर्यवेक्षण किया जायेगा। जिले के समस्त गैर व्यावसयिक एवं व्यावसायिक प्रतिष्ठानों को जियो टेग मैपिंग के माध्यम से विभिन्न अधिनियमों में पंजीकृत प्रतिष्ठानों की जानकारी एकत्रित करने के लिये, असंगठित समूहों की व्यावसायिक गतिविधियों की जानकारी एकत्रित करने के लिये इसी प्रकार व्यावसायिक गतिविधि चाहे वह प्राथमिकी हो मौसमी हो या कभी कभार होने वाली व्यावसयिक  गतिविधि इसमें एकत्रित की जायेगी। उक्त गणना में कृषि क्षेत्र एव सरकार कार्यालय को शामिल नहीं किया गया है।
 सभी नागरिकों से अनुरोध किया गया है कि अपने प्रतिष्ठान पर आने वाले  (सीएससी)  के प्रगणकों को सही-सही जानकारी  दें। दी गई जानकारी गोपनीय रखी जायेगी। प्रगणक  एक नियत ड्रेस कोड जिसमें सफेद टी-शर्ट, टोपी एवं प्रत्येक प्रगणक के पास प्राधिकार पत्र होगा।