जिले के शासकीय अस्पतालों में बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिये कायाकल्प अधिकारी नियुक्त       वरिष्ठ अधिकारी करेंगे शासकीय अस्पतालों का औचक निरीक्षण
August 29, 2019 • धर्मेंद्र शुक्ला

 


       जिले के शासकीय अस्पतालों में बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिये कायाकल्प अधिकारी नियुक्त
      वरिष्ठ अधिकारी करेंगे शासकीय अस्पतालों का औचक निरीक्षण
इंदौर 29 अगस्त 2019
 कलेक्टर श्री लोकेश कुमार जाटव ने जिले के शासकीय अस्पताल में आ रहे मरीजों को उचित परामर्श के साथ-साथ बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिये अस्पताल वार कायाकल्प अधिकारी नियुक्त किया है। ये अधिकारी फोर-डी फार्मूले पर कार्य करेंगे। इसमें डाइट, ड्रग्स, डायग्नोसिस और डिसिप्लिन शामिल हैं। जारी आदेशानुसार मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्रीमती नेहा मीना को प्रकाशचन्द्र सेठी सिविल अस्पताल, अपर कलेक्टर श्री दिनेश जैन को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र बाणगंगा, अपर कलेक्टर श्री कैलाश वानखेड़े को हुकुमचन्द्र पॉलीक्लीनिक, अपर कलेक्टर श्री पवन जैन को नंदानगर प्रसूति गृह और कलेक्टर श्री बी.बी.एस. तोमर को सिविल अस्पताल मल्हारगंज का दायित्व सौंपा गया है। 
 जारी आदेशानुसार कायाकल्प अधिकारी फोर-डी फार्मूले को लागू करने हेतु समस्त संभाव्य उपाय अपनाएंगे एवं आवश्यकतानुसार फोर-डी को बेहतर बनाये रखने एवं अधिक बेहतर बनाने हेतु अपने सुझाव भी प्रस्तुत करेंगे। समय-समय पर फोर-डी के विषय विशेषज्ञों को संबंधित अस्पताल में निमंत्रित कर विशेष कार्यशाला/प्रशिक्षण आदि की कार्य-योजना बनाकर क्रियान्वित करेंगे। कायाकल्प अधिकारी संबंधित अस्पताल हेतु आवश्यक जनभागीदारी भी सुनिश्चित की जायेगी, साथ ही सीएसआर एक्टिविटी के तहत आवश्यक उपकरण/अधोसंरचना संबंधी कार्यों पर भी ध्यान केन्द्रित करेंगे। इनके द्वारा रोगी कल्याण समिति को अधिक क्रियाशील एवं मजबूत करने के प्रयास किये जायेंगे। कायाकल्प अधिकारियों द्वारा दवाइयों की उपलब्धता सुनिश्चित की जायेगी तथा मौसमी बीमारियों हेतु संभावित दवाइयों हेतु पूर्व तैयारियों की निगरानी भी की जायेगी। 
 कायाकल्प अधिकारी द्वारा मरीजों के उपचार हेतु आवश्यक जाँच इत्यादि की समय-समय पर समीक्षा की जायेगी तथा आवश्यकतानुसार जहां जाँच तकनीक उपलब्ध है। वहाँ से आवश्यक समन्वय के प्रयास किये जायेंगे। चमेलीदेवी रेडक्रास डायग्नोसिस सेंटर छावनी से समन्वय भी सुनिश्चित किया जायेगा तथा आर्थिक रूप से कमजोर व्यक्तियों हेतु इलाज/उपचार हेतु आवश्यक प्रस्ताव भी रेडक्रास समिति को अनुशंसा सहित अग्रेषित करेंगे। जिन प्रकरणों में उचित हो, वहाँ मुख्यमंत्री स्वैच्छानुदान हेतु भी अनुशंसा कर सकेंगे। ऐसे मरीज जो राज्य बीमारी सहायता निधि अन्तर्गत पात्रता रखते हैं, उन्हें इस योजना का लाभ दिलवाने हेतु कार्यवाही भी सुनिश्चित करेंगे। आवाहन योजना में भी प्रकरण तैयार किये जा सकते हैं। 
 कायाकल्प अधिकारियों द्वारा मरीजों को निर्धारित मेन्यु अनुसार प्रदाय किये जा रहे भोजन एवं भर्ती गर्भवती/धात्री महिलाओं एवं एनएनसीयू/एमआरसी में भर्ती बच्चों की माताओं की डाइट की भी समीक्षा करेंगे। कायाकल्प अधिकारियों द्वारा अस्पताल में पूर्ण अनुशासन हेतु समस्त संभाव्य उपाय किये जायेंगे तथा चिकित्सकीय समस्त प्रकार के अमले की कार्यक्षमता बढ़ाने तथा प्रोत्साहन हेतु कार्य किया जायेगा। नि:शुल्क जाँच, भोजन, परिवहन एवं विभाग की विभिन्न योजनाओं का गुणवत्तापूर्ण क्रियान्वयन के साथ-साथ इन योजनाओं के समुचित प्रचार-प्रसार की कार्यवाही सुनिश्चित करवाने हेतु कार्य किया जायेगा तथा विभिन्न योजनाओं में भुगतान की जाने वाली सहायता राशि जैसे- मुख्यमंत्री श्रमिक सेवा (प्रसूति सहायता) योजना, जननी सुरक्षा योजना अन्तर्गत राशि का भुगतान समय पर सुनिश्चित करवाया जायेगा। कायाकल्प अधिकारियों द्वारा इन कार्यों की पाक्षिक रूप से समीक्षा की जायेगी तथा औचक निरीक्षण भी समय-समय पर किया जायेगा।