क्राइम ब्रांच व थाना कानादिया पुलिस की संयुक्त कार्यवाही में धाराया तस्कर
August 27, 2019 • धर्मेंद्र शुक्ला

 

गिरोह के 08 सदस्य गिरफ्तार, देवास जिले का कंजर भी धराया।

क्राईम ब्रांच ने कुल 21 चोरी के दो पहिया वाहन किये बरामद।

क्राइम ब्रांच व थाना कनाड़िया पुलिस की संयुक्त कार्यवाही में धराया तस्कर

इन्दौर दिनांक 27 अगस्त 2019- अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक इन्दौर जोन इन्दौर श्री वरूण कपूर व्दारा शहर में वाहन चोरी की वारदातों पर अंकुश पाने के लिये आरोपियों के संबंध में आसूचना संकलित कर उनकी धरपकड़ कर चोरी गये वाहनों की बरामदगी हेतु क्राईम ब्रांच इंदौर को निर्देशित किया गया है। उक्त निर्देशों के तारतम्य में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक श्रीमति रूचिवर्धन मिश्र इन्दौर (शहर), द्वारा ऐसे कृत्यों में लिप्त अपराधियों की पहचान सुनिश्चत कर, उनकी धरपकड़ हेतु पुलिस अधिकारियों को दिशा निर्देश जारी किये गये थे। पुलिस अधीक्षक (मुखयालय) इंदौर श्री सूरज वर्मा के निर्देशन में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक क्राईम ब्रांच श्रीअमरेन्द्र सिंह द्वारा क्राईम ब्रांच के समस्त टीम प्रभारियों को संपत्ति संबंधी अपराधों पर अंकुश पाने तथा वाहन चोरी की वारदातों को अंजाम दे रही सक्रिय गिरोह के संबंध में सूचना संकंलित उपरांत उनकी पतासाजी कर धरपकड़ करने हेतु  समुचित दिशा निर्देश दिये गये।
इसी अनुक्रम में क्राईम ब्रांच इंदौर की टीम को सूचना प्राप्त हुई थी कि जय वीरू नामक वाहन चोर गिरोह थाना कंनाड़िया क्षेत्र में घूमती हुई देखी गई है, प्राप्त सूचना से क्राईम ब्रांच की टीम द्वारा थाना कनाड़िया पुलिस को अवगत कराया गया जिसके बाद क्राईम ब्रांच व थाना कनाड़िया पुलिस द्वारा संयुक्त कार्यवाही करते हुये गिरोह की पतासाजी हेतु सघन छानबीन की जिसमें मानवता नगर में 04 संदेही व्यक्ति घूमते हुये मिले जो पुलिस को देखते ही भागने का प्रयास करने लगे। पुलिस टीम द्वारा तत्परतापूर्वक कार्यवाही करते हुये घेराबंदी कर 1.विशाल उर्फ पंडित पिता स्व. प्रहलाद बैरागी उम्र 21 साल निवासी ग्राम खराडिया थाना खुडैल इंदौर, 2. भोला पिता सत्यनारायण दांगी उम्र 19 साल, निवासी ग्राम डबल चौकी के पास फली फाटा थाना खुडैल इंदौर तथा 3. राहुल उर्फ भोला पिता रमेश राठौर उम्र 21 साल ग्राम चोबा पिपलिया थाना बरोठा, देवास 4. अरूण मीणा पिता कन्हैयालाल मीणा उम्र 19 साल ग्राम अकबरपुर थाना बरोठा देवास को पकड़ा गया। पुलिस टीम द्वारा उपरोक्त चारों संदेहियों से पूछताछ की गई तो उन्होंनें चोरी करने की नियत से मानवता नगर में रैकी के लिये घूमना कबूल किया। आरोपियों की मौके पर संदेह के आधार पर तलाशी ली गई जिसमें आरोपियों मोटर सायकल की चाबियां, वायर कटर, तथा लौहे की टामी, पैचकस, व प्लायर बरामद हुये।
पकड़े गये उपरोक्त उल्ल्ेखित चारों आरोपियों को पुलिस टीम द्वारा थाना कनाड़िया के अपराध क्रमांक 439/19 धारा 401, 34 भादवि के प्रकरण में अभिरक्षा में लिया जाकर विस्तृत पूछताछ की गई जिसमें अन्य वारदातों के संबंध में पूछताछ के दौरान खुलासा हुआ कि आरोपी अरूण मीणा उक्त गिरोह का सरगना है जोकि लम्बे समय से वाहन चोरी की वारदातें कर रहा हैं आरोपी अरूण ने अपने साथियों की मदद से जिला इंदौर, देवास, खण्डवा, तथा राजस्थान से दो पहिया वाहन चोरी करना कबूल किया। आरोपी अरूण ने बताया कि बी कॉम तक पढ़ा है तथा उसने आधा दर्जन से अधिक वाहन अकेले ही चुरा लिये थे जिसमें यशवंत प्लाजा, बंगाली वाईनशॉप, नेमावर रोड वाईन शॉप, बिचौली हप्सी शादी समारोह, करनावद गांव आदि जगहों से उसने दो पहिया वाहन चोरी करना कबूल किया तथा खुलासा किया कि उसने अपनी गिरोह के अन्य साथियों की मदद से उपरोक्त सभी वाहन सस्ते दामों में अन्य लोगों को बेच दिये थे तथा कुछ वाहन उपयोग करने के बाद खाई में फेंककर, लावारिस छोड़ दिये थे।
आरोपी विशाल उर्फ पंडित पिता स्व. प्रहलाद बैरागी, भोला पिता सत्यनारायण दांगी उम्र 19 साल, निवासी ग्राम डबल चौकी, राहुल उर्फ भोला पिता रमेश राठौर उम्र 21 साल ग्राम चोबा पिपलिया थाना बरोठा, देवास भी आरोपी अरूण के साथ मिलकर दो पहिया वाहन चोरी की वारदातें करते थे तथा चोरी किये गये वाहनों को बेचने के लिये ये लोग ग्राहक तलाद्गा कर तोड़ बट्‌टा करवाते थे। उपरोक्त चारों सदस्य एक दूसरे के प्रति वारदात करते वक्त जय वीरू की जोड़ी की तरह कसम खाकर वफादारी से काम करते थे। पूछताछ में चारों चोर आरोपीगणों ने 02 दर्जन से अधिक वाहन चोरी की वारदातें कबूल की हैं जिनकी निशानदेही पर 17 दो पहिया वाहन बरामद किये गये हैं। वाहनों के संबध में तस्दीक करने पर 08 वाहन इंदौर शहर के थाना कनाड़िया ,थाना आजाद नगर, थाना खजराना, थाना छत्रीपुरा, थाना पंढरीनाथ, थाना एमजी रोड व थाना एरोड्रम से चोरी किये जाना ज्ञात हुये जिनके अपराध पूर्व से ही पंजीबध्द थे।
आरोपियों ने जिन लोगों को चोरी के दो पहिया वाहन बेचे हैं उनके संबंध में पूछताछ करने पर 5. योगेश पिता कैलाश जाटव ,19 साल ग्राम अखबरपुर थाना बरोठा, डबल चौकी देवास, 6. जगदीश पिता बालाराम पटेल, उम्र 48 साल ग्राम सोनवाय थाना खुडैल इंदौर, 7. मिथुन उर्फ राधे पिता जयराम डोरिया उम्र 23 साल ग्राम चौबा पिपल्या थाना बरोठा देवास के नामों का खुलासा हुआ जिन्होनें गिरोह से चोरी के दो पहिया वाहन खरीदे थे। उपरोक्त तीनों को भी पतासाजी कर गिरफ्तार किया जिनसे चोरी के वाहन बरामद किये गया। थाना कनाड़िया क्षेत्र में कनाड़िया पुलिस द्वारा पकड़े गये कंजर से भी 04 वाहन बरामद हुये इस प्रकार कुल 21 वाहन बरामद किये  08 आरोपी गिरफ्तार किये गये।
राहुल उर्फ भोला पिता रमेश राठौर कक्षा 09 वीं तक पढ़ा है तथा महिला मित्रों के संग घूमने व डांस बार में रंगीन शौक पूरे करने का आदी है। आरोपी वाहन चोरी करने के साथ ही चोरी के वाहन बेचने केलिये ग्राहकों को तलाश कर विक्रय राशी तय करता था।
विशाल पण्डित ने बताया कि वह पूजा पाठ तथा कर्म काण्ड का काम करता है लेकिन पैसों की आवश्यकता के चलते अपने साथियों के साथ वाहन चोरी करने लगा था जिसने कई वारदातों को अंजामद दिया जाना कबूल किया यह मूलतः इंदौर का ही रहने वाला है।
आरोपी भोला पिता सत्यनारायण ने पूछताछ में बताया कि वह डबल चौकी देवास का रहने वाला है तथा 05 वाहन चोरी की वारदातों में वह सम्मिलित रहा है। 
आरोपी योगेश पिता कैलाश जाटव मैकेनकल इंजीनियंरिंग पढ़ा लिखा है तथा अकबरपुर देवास का रहने वाला हैं आरोपी अरूण का परिचित है जोकि चोरी के वाहन सस्ते दामों में खरीदता था।
आरोपी जगदीश पिता बालाराम पटेल मुखय खरीददार है जोकि चोरी के वाहन खरीदता था। पेशे से खेती किसानी करता है लेकिन सस्ते दामों में दो पहिया वाहन क्रय कर अवैध लाभ अर्जित करने की चाह में वाहन चोरी गिरोह का अंग बन गया था।
आरोप मिथुन उर्फ राधे चौबा पिपलिया थाना बरोठा देवास का रहने वाला है तथा कक्षा 10 वीं तक पढ़ा है अपने गिरोह के साथीदारानों के साथ मिलकर चोरी के वाहनो के क्रय विक्रय में संलिप्त था।
आरोपी भोला पूर्व से भी सामान्य चोरी की वारदातें करता आ रहा है जोकि एक दुकान से नगदी चोरी करने के आरोप में पुलिस टीम द्वारा पकड़ा जा चुका है। आरोपी भोला, विशाल पण्डित तथा राहुल नशा करने के आदी है जोकि अवैध मादक पदार्थों का सेवन कर नशो में द्युत रहते हैं। आरोपीगण नशा करने तथा महिला मित्रों को घुमाने के लिये पैसों की आवश्यकता होने पर दो पहिया वाहन चोरी की वारदातों को अंजाम देते थे।
आरोपियों का पुलिस रिमाण्ड लिया जाकर विस्तृत पूछताछ की जायेगी जिनसे वाहन चोरी की अन्य वारदातों के खुलासा होने की संभावना है।