इंवेस्टर्स-समिट के पहले ही, प्रदेश में आया लगभग 30,000 करोड़ का निवेश उत्साहवर्धक*
October 5, 2019 • धर्मेंद्र शुक्ला

*इंवेस्टर्स-समिट के पहले ही, प्रदेश में आया लगभग 30,000 करोड़ का निवेश उत्साहवर्धक*

*कमलनाथ सरकार के प्रति बने विश्वास के वातावरण के कारण ''मैग्नीफिसेंट मध्यप्रदेश-2019.'' समिट को ऐतिहासिक सफलता मिलना सुनिश्चित : शोभा ओझा*

मध्यप्रदेश कांग्रेस मीडिया विभाग की अध्यक्ष श्रीमती शोभा ओझा ने आज जारी अपने बयान में कहा कि प्रदेश की पूर्ववर्ती भाजपा सरकार के कुशासन, भ्रष्टाचार, घोटालों, गलत नीतियों और अकर्मण्यता के चलते मध्यप्रदेश के विकास की जो गति अवरूद्ध हो गई थी, उसे गति प्रदान करने के लिए कांग्रेस सरकार ने बेहद गंभीरता से अनेक ऐतिहासिक कदम उठाए हैं।प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ जी के विशेष प्रयासों के चलते केवल इन्दौर-पीथमपुर क्षेत्र में ही, अब तक लगभग तीस हजार करोड़ रुपये का निवेश आ चुका है और यह इस बात का साफ संकेत है कि निवेशकों के मन में कमलनाथ सरकार के प्रति पूरा भरोसा और विश्वास है, जिसके चलते 18 अक्टूबर को इंदौर में होने जा रही ''मैग्नीफिसेंट मध्यप्रदेश-2019'' समिट की ऐतिहासिक सफलता पूरी तरह सुनिश्चित है।

 आज जारी अपने बयान में उपरोक्त विचार व्यक्त करते हुए श्रीमती ओझा ने कहा कि प्रदेश में निवेश को आकर्षित करने के लिए इंदौर में आयोजित होने जा रही इन्वेस्टर्स समिट ''मैग्नीफिसेंट मध्यप्रदेश-2019'' में कई प्रतिष्ठित उद्योपतियों को आमंत्रित किया गया है। यहां यह उल्लेखनीय है कि देश के बीचों-बीच स्थित मध्यप्रदेश निवेश की दृष्टि से सर्वोत्तम प्रदेश है, जहां 230000 कि.मी. के रोड नेटवर्क, ट्रांसपोर्ट की स्तरीय सुविधा, अंतर्राष्टीय एयर-कार्गो की सुविधा के साथ ही पांच बडे़ राज्यों से लगी सीमा है। यहां कृषि एवं फूड प्रोसेसिंग क्षेत्र में निवेश के बेहतरीन अवसर हैं, क्योंकि मध्यप्रदेश पांच विशेष फसल क्षेत्र से युक्त है, संतरा, टमाटर व लहसुन उत्पादन में प्रथम है, औषधीय एवं दुग्ध उत्पादन में अग्रणी है। यह दुर्भाग्य ही कहा जायेगा कि प्रदेश की इस नैसर्गिक क्षमता का पिछली सरकार के द्वारा कभी समुचित उपयोग नहीं किया गया।

आज जारी अपने बयान में श्रीमती ओझा ने कहा कि मध्यप्रदेश निवेश के लिए सर्वश्रेष्ठ राज्य इसलिए भी है क्योंकि यहां 120000 एकड़ औद्योगिक भूमि, 48000 एकड़ विकसित औद्योगिक क्षेत्र, 900 एमक्यूबी जल उद्योगों के लिये, 23000 मेगावाट से अधिक की बिजली क्षमता, 2 लाख स्किल्ड मैन पावर प्रतिवर्ष की उपलब्धता है, जो प्रदेश को निवेश के लिए एक आदर्श राज्य बनाता है। 

 श्रीमती ओझा ने अपने बयान के अंत में कहा कि इन्वेस्टर्स समिट के पहले ही, प्रदेश में जिस तरह से हजारों करोड़ का निवेश आया है, वह स्पष्ट रूप से इस बात का सूचक है कि 18 अक्टूबर को इंदौर के ब्रिलियंट कन्वेंशन हाॅल में आयोजित होने जा रही ''मैग्नीफिसेंट मध्यप्रदेश-2019'' समिट को बड़ी सफलता मिलेगी और इसके बाद मध्यप्रदेश में लाॅजिस्टिक्स, फूड़-प्रोसेसिंग, फार्मा, आॅटोमोबाइल आदि विभिन्न क्षेत्रों के उद्योगों में ऐतिहासिक निवेश आने की संभावना है, जिससे मध्यप्रदेश में विकास के एक नये युग का सूत्रपात होगा।