इंदौर शहर में सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट के निर्माण तेज गति से दिन-रात काम कर पूरे किये जाये l     सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) का निर्माण पूरा करने के लिये संभागायुक्त श्री आकाश त्रिपाठी ने तय की समय-सीमा l
October 5, 2019 • धर्मेंद्र शुक्ला

    इंदौर शहर में सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट के निर्माण तेज गति से दिन-रात काम कर पूरे किये जाये l
    सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) का निर्माण पूरा करने के लिये संभागायुक्त श्री आकाश त्रिपाठी ने तय की समय-सीमा l

इंदौर। शहर में विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत चल रहें सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट(एसटीपी) का निर्माण कार्य तेज गति से दिन-रात काम कर  पूरे किये जाये। संभागायुक्त श्री आकाश त्रिपाठी ने एसटीपी के निर्माण कार्य को पूर्ण गुणवत्ता के साथ शीघ्र पूरा करने के लिये समय-सीमा तय की है। उन्होने निर्देश दिये है कि उक्त कार्य निर्धारित समय-सीमा में पूरा हो। नगर निगम के अधिकारी नियमित रूप से कार्य की प्रगति की समीक्षा करें। निर्धारित समय-सीमा में कार्य पूरा नहीं करने पर संबंधित ऐजेंसी के विरूद्ध सख्त कार्यवाही की जायें। 
 संभागायुक्त श्री आकाश त्रिपाठी ने आज संभागायुक्त कार्यालय में अमृत योजना तथा स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के अंतर्गत निर्माणाधीन सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) की प्रगति की समीक्षा की। इस अवसर पर कलेक्टर श्री लोकेश कुमार जाटव, नगर निगम आयुक्त श्री आशीष सिंह, स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट की कार्यपालन अधिकारी सुश्री अदिति गर्ग, अपर कलेक्टर श्री अजय देव शर्मा, अपर आयुक्त श्री संदीप सोनी सहित अन्य सभी संबंधित विभागों के अधिकारी मौजूद थे। 
 बैठक में संभागायुक्त श्री त्रिपाठी ने प्रगतिरत सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट तथा अन्य संबंधित कार्यों की प्रगति की समीक्षा की। इस अवसर पर बताया गया कि अमृत योजना के अंतर्गत राजेन्द्र नगर में प्रतीक सेतु के पास में  8 एमएलडी का, बीजलपुर(हुकमाखेड़ी) में 7 एमएलडी का, खण्डवा रोड पर राधास्वामी आश्रम ( हिम्मत नगर) में 6 एमएलडी का, नाहर भण्डारा में 11 एमएलड़ी का तथा प्राणी संग्राहलय (आजाद नगर) में 35 एमएलड़ी का सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट का निर्माण चल रहा है। इसी तरह स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में भी सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट बनवाये जा रहें है। 
 संभागायुक्तह श्री त्रिपाठी ने प्रगतिरत इन कार्यों का सिविल वर्क हर-हाल में जनवरी 2020 तक पूरा करने की समय-सीमा तय की। इसी तरह उन्होने सिविल वर्क पूरा होने के बाद टेस्टिंग कर सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट को हर-हाल में मार्च माह तक शुरू करने के निर्देश दिये। उन्होने समय-सीमा के पश्चात भी काम पूरा न करने वाली एजेंसी के विरूद्ध सख्त कार्यावाही के निर्देश  भी दिये।